राफेल के बाद आने वाला है Sikorsky MH-60R Seahawk हैलीकॉप्टर, बढ़ाएगा भारतीय नौसेना की ताकत, जाने क्या है इसमें खास ।

दोस्तों, इस साल फ़रवरी माह में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत दौरे के दौरान भारत सरकार ने अमेरिका से  24 Sikorsky MH-60R Seahawk हैलीकॉप्टर खरीदने का रक्षा सौदा किया है, जिसकी कीमत 2.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर है । यह दुनिया की सबसे शक्तिशाली और उन्नत टेक्नोलॉजी से लैश नौसैनिक लड़ाकू हेलीकॉप्टर है। यह हेलीकॉप्टर समुद्र के अंदर पनडुब्बियों और पोतों को खोज निकालने और उसे हवा से ही मार गिराने में अचूक है।  Anti-submarine और anti-surface warfare system से लैश इस हेलीकॉप्टर का निर्माण लॉकहीड मार्टिन नामक अमेरिकी कंपनी के द्वारा किया जाता है, और यह अगले साल तक भारतीय नौसेना के बेड़े में शामिल हो जायेगा। इस हेलीकॉप्टर के आ जाने से भारतीय नौसेना अरब और हिन्द महासागर में और भी मजबूत बनकर उभरेगी। 

History 

यह अमरिका द्वारा इस्तेमाल किये जा रहे Seahawk सीरीज के हेलिकॉप्टर्स का सबसे आधुनिक सदस्य है। पहली बार इसका निर्माण लॉकहीड मार्टिन कंपनी के द्वारा साल 1999 में किया गया था, और इसे 2005 में अमेरिकी नौसेना में शामिल किया गया। वर्तमान में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इस हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल United State Navy, Royal Australian Navy, Royal Saudi Naval Forces, और Royal Danish Navy के द्वारा किया जा रहा है। 

Sikorsky MH-60R Seahawk हैलीकॉप्टर
इमेज सोर्स: लॉकहीड मार्टिन 

संरचना 

इस हेलीकॉप्टर की लम्बाई लगभग 65 फ़ीट, चौड़ाई 54 फ़ीट, और ऊंचाई 17 फ़ीट है, वहीँ इसके मुख्यः रोटोर का व्यास लगभग 54 फ़ीट और पिछले रोटोर का व्यास 11 फ़ीट है। इसमें 1410 kW के दो General Electric T700-GE-401C टर्बोशैफ्ट इंजन लगे हैं।  

विशेषता 

  • यह एक डबल इंजन मल्टीरोल लड़ाकू हेलीकॉप्टर है। 
  • यह anti-submarine और anti-surface warfare system से लैश दुनिया की सबसे उन्नत और अचूक लड़ाकू हेलीकॉप्टर है। 
  • इसे एयरक्राफ्ट कैरियर, डेस्ट्रॉयर, क्रूजर, और फ्रिगट से संचालित किया जा सकता है ।
  • यह लगभग 30 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से सीधे ऊपर उठने और अधिकतम 267 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से उड़ान भरने में सक्षम है। 
  • यह लगभग 3.7 किलोमीटर की ऊंचाई को प्राप्त कर सकता है और इसका रेंज लगभग 835 किलोमीटर है। 
  • इसका वजन लगभग 6,900 किलोग्राम  है जबकि यह 10,682 किलोग्राम तक का वजन लेकर उड़ान भर सकता है। 
  • यह एंटी-शिप मिसाइल, टॉरपीडो, और 50 कैलिबर की मशीन गन से लैश युद्ध के लिए तैयार हेलीकॉप्टर है।
  • यह एक साथ आठ लेज़र गाइडेड Hellfire मिसाइल फायर करने में सक्षम है। 
  • यह इसमें लगे high quality के Forward-looking Infrared (FLIR) कैमरे की मदद से तेज़ धुप और रात के अंधेरों में भी दुश्मन की पनडुब्बियों को खोजने और उनका निशाना लगाने में सक्षम है।  
  • यह उन्नत मल्टी-मोड रडार सिस्टम, इलेक्ट्रॉनिक सपोर्ट मिजर सिस्टम, और लो-फ्रीक्वेंसी सोनार सिस्टम से लैश है और इसमें मौजूद हाई-पावर सेंसर्स किसी भी परिस्थिति का पूर्व आकलन करने में सक्षम है। 
  • यह मौसम के विपरीत परिस्थितियों में भी आसानी से उड़ान भर सकता है। 
  • इस हेलीकॉप्टर के आ जाने से भारतीय नौसैनिकों को सैन्य अभियान एवं आपदा के समय बचाव कार्यों में बहुत मदद मिलेगी। 

दोस्तों, उम्मीद करता हूँ की आपको ये जानकारी पसंद आयी होगी । 
धन्यवाद,

Post a Comment

1 Comments

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आए तो कृपया यहाँ कमेंट जरूर करें