!! दोस्ती !!

दोस्ती

 

दोस्ती एक बड़ी सुन्दर ईमारत है,

जिसके अंदर निःस्वार्थ प्रेम का बसेरा है !

जिंदगी चहचहाने लगती है दोस्तों से,

बिना इनके हर जगह सन्नाटों का घेरा है !!

बिना दोस्तों के दुनिया, 

वीरान सी लगती है !

चकाचौंध हो चारों तरफ, 

फिर भी अश्मशान सी लगती है !!

इस दुनियां में सच्चे दोस्त,

बड़ी मुश्किल से मिलते हैं !

ये तो सच है की कमल,

कीचड़ में ही खिलते हैं !!

हूँ बड़ा खुशकिस्मत मैं, 

जो तुम जैसे दोस्तों को पाया !

यहाँ मेरी किस्मत ने, 

मेरा बखूबी साथ निभाया !!

पास जिसके ऐ दोस्तों, 

दोस्ती की ताकत है !

उसको कैसे कोई रोकेगा,

किसकी हिमाकत है !!

ऐ दोस्त इस दोस्ती में,

अपना सब कुछ कुर्बान है !

देनी पड़ गयी जान गर, फर्क नहीं पड़ता,

क्यूंकि ऐ दोस्त, तू ही तो मेरी असली जान है !!

-----------

--------

Post a Comment

1 Comments

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आए तो कृपया यहाँ कमेंट जरूर करें