!! मोहब्बत बदनाम हो गया !!

मोहब्बत बदनाम हो गयाा...
 

धोखे के बाजार में... 

हँस कर नीलाम हो गया !

की ये पाक मोहब्बत... 

आज बदनाम हो गया !!

जो था अब तक अनमोल...

अब उसका दाम हो गया !

लग गयी इसकी बोली... 

रुसवा ये सरे आम हो गया !!

की ये पाक मोहब्बत, आज बदनाम हो गया !!

मोहब्बत ये पहले... 

कितना सच्चा हुआ करता था !

लैला की एक हंसी पे...

मजनू सौ बार मरा करता था !!

पर अब ये बस रहकर... 

एक जरुरी काम हो गया !

की ये पाक मोहब्बत... 

आज बदनाम हो गया !! 

इश्क़ और आशिकी का...

वो भी एक दौर हुआ करता था !

जब एक झलक पे सनम की...

दिल हज़ार आहें भरता था !!

पर अब तो ये किस्सा...

बहुत ही आम हो गया !

की ये पाक मोहब्बत... 

आज बदनाम हो गया !! 

बदनाम हो गए आशिक़...

बदनाम आशिकी हो गयी !

किस्सा वफ़ा का, अब इश्क़ में तमाम हो गया...

की ये पाक मोहब्बत, आज बदनाम हो गया !! 

--------------

-----

Post a Comment

0 Comments